अभिवावकों के लिए मोदी जी की सलाह !

0
588
अभिवावकों के लिए मोदी जी की सलाह !

एक ऐसा प्रधानमंत्री जो देशवासियों के लिए हमेशा पथ प्रदर्शक बन खड़ा होता है। किसानो से लेकर बच्चो तक सबसे जुड़ने की कोशिश करता है राष्ट्र ने ऐसा व्यक्तित्व पहली बार शायद देखा होगा। इससे पहले राष्ट्रपति अब्दुल कलम आज़ाद को इस तरह बच्चो के बिच आकर उन्हें सलाह मशवरा करते देखा था, वही यादें ताज़ा होगयी।
“परीक्षा पे चर्चा 2.o” में मोदी जी ने स्टूडेंट्स और उनके अभिवावकों से चर्चा की और कई अमूल्य सलाह दीं।
बच्चो को उन्होंने कहा
”अपेक्षाओं से ज्यादा करने की इच्छा जगती है’, ‘अगर हम अपने आप को कसौटी के तराजू पर झोकेंगे नहीं, तो जिंदगी ठहर जाएगी। जबकि जिंदगी का मतलब होता है तेजी, गति बिना उस जिंदगी का क्या मतलब?”

अभिवावको को प्रधानमंत्री जी ने बहुमूल्य सलाह दीं जिस पर हम सब पेरेंट्स को ध्यान देना चाहिए।

उसी चर्चा के कुछ बिंदु हम यहाँ उल्लेखेलित कर रहे हैं –
अभिवावको से उन्होंने आग्रह करते हुए कहा की –
“आपके सपने भी होने चाहिए अपेक्षाएं भी होनी चाहिए। लेकिन प्रेशर से स्थिति बिगड़ जाती है। प्रेशर से रिएक्शन आता है। ऐसा न हो इसका ध्यान रखना चाहिए।”

”जब छोटा बच्चा होता है, तो मां बाप उसकी गलतियों का जिक्र मेहमानों से काफी अच्छे से करते हैं। क्योंकि उसकी एक्टिविटी वो नोट करते हैं। लेकिन 7-8 साल की उम्र के बाद हम उसकी एक्टिविटी पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। वो 3-6 महीने का जब था तब से लेकर जब तक वह वयस्क नहीं हो जाता तब तक माता-पिता को उसको देखना चाहिए।”

प्रधानमंत्री ने nuclear families के लिए कहा, ”भारत जैसे देश में यह डिप्रेशन वाली बात जो है वो बहुत परेशान करती है। भारत की जो मूलभूत समाज रचना है उसमें प्रेशर को रिलीज करने की व्यवस्था है। लेकिन दुर्भाग्य से समाज में जो परिवर्तन आए, उनसे चीजें बदल गईं। पहले हमारी ज्वाइंट फैमिली होती थी। इससे बच्चों को अपने आपको अलग-अलग लोगों से एक्सप्रेस करने का अवसर मिलता था। आज स्थिति है कि हम एक्सप्रेशन नहीं सप्रेशन की तरफ जा रहे हैं।”

उन्होंने कहा “माता पिता और शिक्षकों को बच्चों की तुलना नहीं करनी चाहिए. इससे बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है. हमें हमेशा बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए”

“अभिभावकों का सकारात्मक रवैया बच्चे की जिंदगी की बहुत बड़ी ताकत बन जाता है.”

ऐसे प्रधानमंत्री जो देशहित के लिए हर level तक लोगो से जुड़ने का प्रयास करते हैं दुर्दर्शी हैं इसीलिए आज के बच्चो का कल और देश का कल सुधारना चाहते हैं, ऐसे व्यक्तित्व को हमारा शत शत नमन !

Image: PIB_india