Mobile Mania | A Funny Post

1
476
image source: pixabay
पहले एक elite कहा जाने वाला group बड़े बड़े washrooms बनवाया करता था और उन washrooms में छोटी library हुआ करती थी newspaper आते साथ ही रामु काका उसे washroom में रख आते थे, क्यूकि साहब का प्रेशर ताज़ा खबरें पढ़ कर ही बनता था. लोटा पार्टी वाले भी स्पेशल प्रकार की घांस खींच खींच के दांतून करते करते pressure बनाया करते थे. कोई सुबह सुबह चाय के लिए चीखें मरता था तो कोई चुपके से घर से पीछे सुट्टा मार के आता था.
तब जाके कहीं बढ़िया pressure आता था.
आज के ज़माने में बस एक चीज़ है जो सबका प्रेशर without discrimination बनाती है और वो है स्मार्ट फ़ोन. अरे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता की iphone है या वीवो स्मार्ट फ़ोन. 12′ x 12′ का luxurious washroom है या open space, वेस्टर्न toilet type है या इंडियन. अरे हाँ यक़ीन मानिये लोग इंडियन में भी मैनेज कर लेते हैं भाई.
Actually लोग कहते हैं मोबाइल आपको addict कर रहा है .. अरे इस addiction में इतना addiction है की इंसान अपना real addiction भूल जाता है कभी कभी.
लोग कहते हैं सोने से पहले अपने फ़ोन से कुछ minute दूर रहना चाइये अगर आप sound sleep लेना चाहते हैं. एकदम correct है यार, साला अपने instagram facebook खोल लो सोने से पहले तो नींद ही नहीं आती, कोई back to back abroad trips मारा करता है कोई, हर दुसरे दिन 5 star में डिनर करता है, किसी का face ऐसे glow कर रहा होता है हमेशा जैसे हर हफ्ते facial routine follow करते हों .. (क्या पता कोई स्पेशल filter या app कोई जिसके effects से ऐसा होता है, फ़िलहाल आप jealous हैं और ये सब नहीं सोच पा रहे हैं ).
किसी को इस बात की चिंता हो रही है की मेरे ग्रुप में सबकी शादी होगयी मैं ही अकेला रह गया किसी को इस  बात की फ़िक्र है की वो अकेला शादी कर के फंस गया उसके बाकि दोस्त bachelor है और मज़े मार रहे हैं.
याने कोई भी app खोल लो सब तरफ stress ही stress , पर addiction ऐसा है की देखे बिना भी तो मन नहीं मानता, फिर भले सारे रात खुद की ज़िंदगी को कोसना क्यों न पड़े हम तो दूसरों के पोस्ट देखेंगे.
अब negative ही क्यों कई बार positive effect भी पड़ता है, दूसरों के फोटो zoom कर कर के देखो और खुद से gossip करो किसी और की ज़रूरत ही नहीं..
“कैसी लड़की है surname ही शर्मा है पर असल में कोई शर्म नहीं मिनी माइक्रो से ऊपर कभी पहनती ही नहीं.” “क्या बोरिंग हो गयी है ये शादी के बाद आंटी दिखने लगी है पहले बड़ी stylish बनती फिरती है”, “Dude हुआ करता था bey ये लड़की के चक्कर में पड़ा और देखो क्या हालत होगयी है” , “साले ने शादी क्या करली दोस्तों को भूल गया, बीवी के सामने साधु बनता है”
phewww ..
such a time pass this social media is !
अब हर तरफ हर generation में मोबाइल चलता है आजकल.
पापा whatsapp के forwarded मैसेज को पढ़ कर के serious हो जाते हैं और instructions देने लगते हैं , माँ whatsapp पे सामान लाने की list बना देती है और अब तो ये भी नहीं बोल पाते की “message देखा नहीं माँ”.. क्यूकि वो फट से बोल देती है अच्छा “2 ब्लू tick कैसे आये फिर”.
ये तो चलो फिर भी 40 साल पुराने हैं… हमारे घर के 70 साल पुराने product भी अब इस product को गले लगा चुके हैं. हर दो चार दिन में कभी भी किसी भी समय वीडियो कॉल लगा लेते हैं, और update देते हैं ” बेटा वो तुम्हारे चाचू ने लंदन से हमें फोटुएं भेजी हैं, बर्फ ही बर्फ है चारो तरफ, हमने सोचा तुम्हे भी दिखाए..तुम वीडियो कॉल चालू रखो पीछे से दादी के फ़ोन में फेसबुक खोल के दिखाते हैं ” अब उनको ये कहने का दिल नहीं करता ही दादू फेसबुक फीड सबके पास जाती है उनके पर्सनल खत की तरह नहीं है जो सिर्फ उनके पास आएगा. उनकी ख़ुशी में मन खुश हो जाता है और हम भी interest से photos देख लिया करते. मन ही मन हम उनको दाद दिया करते की देखो दिमाग सही चलते हैं इस बार इनने photos share करने की नयी technique निकाल ली.
भाई अब देखो नुकसान तो हज़ारों हैं फ़ोन के लेकिन फायदे भी कई है. allopathy दवाई जैसा है साइड इफेक्ट्स छोड़ जाता है,
एक portable personal assistant कहलो या पर्सनल manager सारे काम एक इशारे पे कर देता है.
और भाई लोग एक बात तो बिलकुल मत भूलना इस मोबाइल में जान दी है कृपानिधि अम्बानी जी ने. वरना तो ये बस बजना जनता था या तो महंगे internet recharges से या फ्री के WiFi की कृपा आने पे. अब देखो जहाँ तहाँ यहाँ वहां सब जगह बिंदास बजा करता है, कृपानिधि ने ऐसा आशीर्वाद दिया की हर मोबाइल जी उठा.
जिया तो ऐसा जिया की अब हम उसे जीने नहीं देते, हर बात के लिए मोबाइल उठाते हैं, फिर चाहे आटा दाल चीनी ख़तम होगयी हो या चेहरे पे pimples निकले हो, floor clean करने के तरीके ढूंढने हो या shirt का दाग निकलना हो DIY करो सब solve .. न भी अपनाओ तो देखने में तो मज़ा आता ही है. घर से निकले नहीं की पहले google map खोलते हैं. आजकल बेचारे पान वालों का side business ठप्प होगया इस map के चक्कर में.
नुकसान तो सब बताते हैं और शायद हम सब जानते भी हैं पर आज इस funny video के ज़रिये कुछ फायदे देख के खुश ही होलें. क्योकि इस electronic दुनिया में फ्रेंड सर्किल तो बहोत बड़ा है
हम सबका, हर पोस्ट में हमारी selfie वाली स्माइल भी बहोत बड़ी होती है और उसपे likes और hearts भी बहोत मिलते हैं लेकिन असल ज़िंदगी में काफी अकेले होगये हैं, असली मुस्कान क्या होती है भूल ही गए हैं. क्योकि
बहार निकलो तो कोई पडोसी से रिश्ता नहीं रिश्तेदारों के पास जाने का वक़्त नहीं, घरवालों के साथ बैठ के खाना खाने का समय नहीं. दोस्तों के साथ गप्पे मरना क्या होता है आजकल के बच्चो को पता भी है या नहीं क्योकि आजकल outing या get-together के नाम पर zomato check-ins मरते हैं हम.नयी नयी cuisines try करते हैं, american web series discuss करते हैं और बड़ा मोटा बिल pay करके चले आते हैं. शायद एक दुसरे से सही से गले भी नहीं मिल पते.
खैर जाने भी दो यारो…
इन सब senti के चक्कर में हम ये posts , updates , videos और web series थोड़े न छोड़ सकते हैं. और सबसे important that it eases the most difficult job daily.

Comments are closed.