व्हट्स अप्प की दुनिया (whataspp ki duniya)

0
999

व्हाट्स अप्प की दुनिया(wapp ki duniya)
आज हम दुनिया के अद्भुत आधुनिक विश्ववध्यालय जहां सारे बिषयों पर विशेषज्ञों द्वारा निशुल्क ज्ञान बांटा जाता है ,एड्मिशन की कोई फीस नहीं सिर्फ चाहिए एक आधुनिक मोबाइल जिसमें नेट सुबिधा हो और आ जाइए मैदान में,पायें सभी बिषय (वेज़ हो या नॉन वेज़)पर विद्वानों द्वारा ज्ञान जिसमें दर्शन,पांडित्य,संगीत,पेंटिंग, पाक शास्त्रऔर भहुत कुछ,बस आपके ऊपर है की आप का रुझान किस बिषय पर है, और हाँ बीबी शास्त्र में तो विशेष योग्यता मिलती है ,इस पर खोज और अनुसंधान को आप पढ़ पाएंगे जो आप ने न देखा न भोगा और तो और बीबीयाँ भी उन बिषय पर इतना ज्ञान नहीं रखतीं हैं।
चलिये आपको उन महाज्ञानियों से मिलवाते है ,सुबह सुबह देखा एक सज्जन का बड़ा ज्ञान बर्धक संदेश मिला सोचा चलो आज वाकिंग-टाकिंग करते हैं,हॅलो , और भाई क्या हो रहा है , हमें तो ज्ञान ही नहीं था की आप भी दार्शनिक हैं ,बड़े ज्ञान बर्धक संदेश भेजते हो ,सुप्रभात,अरे यार अभी तो उठा भी नहीं हूँ , नींद खुली तो सोचा कुछ संदेश इधर उधर कर लें फिर उठते है ,इंप्रेशन भी बन जाता है और उपस्थिती भी दर्ज हो जाती है ,देखो तुम भी धोखे में आ गए न, कौन पढ़ता है यार बस चिपकाओ और नंबर पाओ ,और सुनाओ ,बस यार सब ठीक है, अच्छा यार फ्रेश हो लूँ, जो बच गए हैं,उनको वहीं से निपटता हूँ। मैंने सिर पकड़ लिया , सोचा चलो उसको भी टटोलते है जो बड़ा अपडेट रहता है , देश में कहाँ क्या हो रहा है सबसे पहले भेजता है,अरे भाई आज सुबह सुबह कैसे याद आ गई कुछ नहीं यार अभी अभी तूने जो मेसेज़ भेजा है, देख रहा था तो सोचा चलो बात करता हूँ,अरे यार इतना सिरियस मत लिया कर वो तो आज छुट्टी थी सोचा पड़े पड़े मजा लेते हैं, एक पुराना मेसेज़ उठा के चिपका दिया , देश के संवेदनशील लोगों की कमी नहीं आव देखा न ताव सरकार को कोसते हुए RIP लिख कर अपना कर्तव्य पूरा किया, कुछ ने तो मेरे को भी भेज दिया , बस यार मजा ले रहा था,यार किसी की भावनाओं से खेलना ठीक नहीं,अरे यार मोज करो सीरियस होने की जरूरत नहीं। नहीं यार तू भूल गए क्या अभी अभी चोटी काटने वाली ख़बर हो या बच्चों को पकड़ने वाली गेंग की ख़बर जिसने न जाने कितने बेकशूर गरीब लोगों की जान ले ली , वो तो ठीक है परंतु लोगों को भी तो सोचना चाहिए न , हाँ साही तो है । चल यार आगे ध्यान देना किसी की भावनाओं से मत खेलना ।
सोचा कितने हल्के से लेते हैं लोग भी कुछ ही समय की तो बात है जब किसी ने ख़बर डाल दी की फालने मोहल्ले में दो गुटों में लड़ाई हो गई , पूरा शहर झंडे डंडे से लेश होकर निकाल पड़ा , वो तो भला हो वहाँ के प्रशासन का जिसने समय रहते खंडन करके शांति स्थापित की,नहीं तो न जाने कितने दिन गरीबों के घर चुलहा नहीं जलता ।
एक दोस्त का मेसेज़ आया, यार कल बेटे का जन्मदिन है, आने है,भाभी को लेते आना । ठीक भाई, और बता क्या चल रहा है, कुछ नहीं यार बेटे ने एक मैथ्स को प्रश्न दे गया बोला पापा कल सुबह स्कूल में दिखाना है, याद से हल कर देना , सोच रहा था wapp पर IAS प्रश्न करके डाल देता हूँ , तथा कथित IAS सक्रिय हो जाएंगे और हल मिल जाएगा कौन महनत करे सुबह बेटे को दे दूंगा । वाह भाई ये सही उपयोग है wapp का चल यार कल मिलते है ।
wapp देखा रहा था, देखा चाचाजी का मेसेज़ था । बेटा 10 तारीख की बिटिया की शादी अचानक तय हो गई सोचा सभी को wapp कर देता हूँ , समय और पैसा दोनों बचेंगे ठीक है न, जी चाचाजी में जरूर आता हूँ ,आप का प्रयास सरहनीय है यदि समाज अपना ईगो छोड़ कर इसे स्वीकार करें तो पैसा और समय की बचत होगी । बेटा आज नहीं तो कल इसे स्वीकारना ही होगा , अच्छा आना । जी प्रणाम ।
सोचने लगा की वाह री यूनिवरसिटि तेरी लीला अपरंपार है , कुछ तो जोड़ने में और कुछ तोड़ने में इसका उपयोग कर रहे है, परंतु यह भी सच है कि इस यूनिवरसिटि से कुछ स्कालर येंसे भी पैदा हो रहे है जो देश, समाज में नकरतमकता पैदा कर रहे हें, उनको हमें उपेक्षित करना होगा ।
राकेश चौबे